गहरी खाई में गिरने से बाल-बाल बची एच आर टी सी की बस

गहरी खाई में गिरने से बाल-बाल बची एच आर टी सी की बस

गहरी खाई में गिरने से बाल-बाल बची एच आर टी सी की बस

डलहौजी हलचल (लाहौल स्पीति):

‘जाको राखे साइयां, मार सके न कोय’ इसका अर्थ यह है कि जिस पर ईश्वर की कृपा दृष्टि होती हैं उसका कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता हैं। ऐसा ही देखने को मिला लाहौल-स्पीति जिला में। मंगलवार को यहां एक बड़ा सड़क हादसा होने से टल गया। रिकांगपिओ-कुल्लू- केलांग रूट पर चलने वाली हिमाचल पथ परिवहन निगम (एचआरटीसी) के केलांग डिपो की बस दालंग गांव के समीप कैंची मोड़ पर दुर्घटनग्रस्त होने से बाल-बाल बच गई। यह बस 31 सवारियों को लेकर केलांग की तरफ जा रही थी। गनीमत यह रही कि बस सड़क किनारे मिट्टी के ढेर में अटक गई अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था।

बस में बैठे यात्रियों ने बताया कि बस मिट्टी के ढेर के ऊपर सुरक्षित टिक गई और किसी को भी चोट नहीं आई। जानकारी के अनुसार मंगलवार दोपहर करीब डेढ़ बजे के आसपास निगम की सरकारी बस लाहौल घाटी के दालंग के पास अनियंत्रित हो गई। इससे सवारियों में चीख-पुकार मच गई। चालक ने सूझबूझ का परिचय देते हुए हैंडब्रेक लगाकर बस को रुकवा दिया। अगर बस चालक मुस्तैदी नहीं दिखाता तो बस मोड़ से पलट सकती थी और बड़ा हादसा हो सकता था।

एचआरटीसी केलांग डिपो के क्षेत्रीय प्रबंधक अंचित शर्मा ने बताया कि किसी यात्री को चोट नहीं आई है। सभी यात्रियों के साथ चालक व परिचालक सुरक्षित है। बस की तकनीकी जांच के लिए टीम मौके पर भेज दी है। बस में क्या दिक्कत आई है जांच के बाद ही पता चलेगा। उन्होंने बताया बस एक दिन पहले ही वर्कशॉप से निरीक्षण करने के बाद रूट पर भेजी गई थी।