Movie prime
मुख्यमंत्री आवास योजना से पूरी हो रही सपनों के आशियाने की हसरत
 
डलहौज़ी हलचल (मंडी) :  जुग जुग जिये जयराम ठाकुर, जिन्हें गरीबां रे कठे एड़ी बांकी स्कीमां चलाईरियां। ये कहते हुए मुख्यमंत्री आवास योजना में अपना पक्का मकान बनने से प्रसन्न बल्ह उपमंडल के पल्हाणी गांव की धनी देवी बार-बार मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर का आभार जताती हैं। वे बताती हैं के जब मकान के लिए सरकारी मदद मिली तो उसपर नाते रिश्तेदार भी कुछ मदद करने को आगे आए, इस तरह उनके सपनों का आशियाना बन कर तैयार हुआ।

धनी देवी का कहना है कि ये सोने पर सुहागे जैसा है कि उनका पक्का मकान तो बना ही साथ ही इसके लिए सरकार ने बिजली और पानी के कनेक्शन भी मुफ्त दिए हैं।

हिमाचल सरकार की मुख्यमंत्री आवास योजना से धनी देवी की ही तरह प्रदेश के हजारों गरीब-जरूरतमंद लोगों के खुद के पक्के मकान के सपने साकार हुए हैं। लोगों की अपने सपनों के आशियाने की हसरत पूरी हुई है। मंडी जिला में ऐसे सैंकड़ों लाभार्थी हैं जिनका खुद के पक्के मकान का सपना पूरा हुआ है। इस योजना से लाभ लेने वाले जिले के सभी लाभार्थियों ने मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर का दिल से आभार जताया है। उनका कहना है कि इस योजना से केवल सिर पर छत ही नहीं बल्कि उन्हें सम्मान से जीने का हक भी मिला है। साथ ही सरकार की ओर से बिजली-पानी के कनेक्शन मुफ्त मिलने से वे इसके लिए दौड़भाग और खर्चे से बचे हैं।

बता दें, मंडी जिला में बीते साढ़े 3 साल में 905 लाभार्थियों को मुख्यमंत्री आवास योजना में पक्का मकान बनाने के लिए करीब 12.65 करोड़ रुपये की सहायता दी है।

डीआरडीए की परियोजना अधिकारी शैफाली बताती हैं कि मुख्यमंत्री आवास योजना में जो गरीब होने के बावजूद बीपीएल सहित ऐसी किसी श्रेणी में नहीं आते, उन्हें भी योजना के तहत घर बनाने के लिए पैसा दिया जाता है। दोनों ही योजनाओं में प्रति लाभार्थी 1.50 लाख रुपये की मदद दी जाती है। इसके अलावा लाभार्थी को अपना ही मकान बनाने के लिए मनरेगा में 95 दिन की मजदूरी का भी प्रावधान है।

गौरतलब है कि पहले इस योजना में पक्का मकान बनाने के लिए लाभार्थियों को 1.30 लाख रुपये दिए जाते थे, जिसे वर्तमान सरकार ने बढ़ाकर 1.50 लाख रुपये कर दिया है।

लाभार्थियों ने जताया सीएम का आभार

अनेक लाभार्थियों की तरह ही बल्ह उपमंडल की ग्राम पंचायत सोयरा के खेम सिंह भी मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर का बार-बार आभार जताते नहीं थकते। उनका कहना है कि उनके लिए अपना पक्का मकान होना तो महज एक सपना था, मगर मुख्यमंत्री आवास योजना से ये सपना साकार हो गया है।

बकौल खेम सिंह हमारे पास मकान के नाम पर बस एक कच्चा ढारा था, उसी में पूरा परिवार किसी तरह समय काट रहा था...बारिश में कमरे के अंदर-बाहर पानी भर आता और तब एक एक पल काटना भारी लगता था। खेम सिंह को मुख्यमंत्री आवास योजना में पक्का मकान बनाने के लिए 1.50 लाख रुपये की सहायता मिली है। वे इससे बेहद खुश हैं और मुश्किलों से निजात दिलाने के लिए मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर का आभार जताते हैं।

इसी तरह मुख्यमंत्री आवास योजना की नाचन क्षेत्र की छम्यार पंचायत के गांव छातर गांव के एक लाभार्थी लोभी राम की धर्मपत्नी ओमावती बताती हैं कि पहले उनके पास अपने मकान के नाम पर बस टूटी छत का पुराना मकान था। अपने पक्के मकान की हसरत तो थी पर माली हालत ऐसी न थी कि वे मकान बना पातीं। लेकिन प्रदेश सरकार से मुख्यमंत्री आवास योजना में मिली 1.50 लाख की मदद ने उनके सपने को हकीकत बना दिया है। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर की दिल से धन्यवाद किया है।

ग्राम पंचायत बग्गी की डोमला देवी कहती हैं कि मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर से मिली आर्थिक मदद से उनका परिवार अब अपने पक्के मकान में रह रहा है। उनका पूरा परिवार बेहद खुश है और हिमाचल सरकार का दिल से आभारी है।

उनके समेत जिला के सभी लाभार्थियों ने एक स्वर में उनके अपने पक्के मकान के सपने को साकार करने और जीवन की मुश्किलों से निजात दिलाने के लिए मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर का आभार जताया है।

क्या कहते हैं जिलाधीश

जिलाधीश अरिंदम चौधरी का कहना है कि जिला में सरकार की आवास योजनाओं के अन्तर्गत पात्र परिवारों को तुरन्त लाभ प्रदान करना सुनिश्चित बनाया गया है। गरीब लोगों के जीवन में सुधार, सामाजिक सुरक्षा और उत्थान में यह योजनाएं काफी कारगर सिद्ध हुई हैं।