Movie prime
भरमौर के डॉ. जनक बने प्रोफेसर, रूमेल सिंह मुख्य अभियंता
 
डलहौज़ी हलचल (शिमला) : चंबा जिला के जनजातीय उपमंडल भरमौर से सम्बन्ध रखने वाले गद्दी समुदाय के दो बेटों ने समस्त समुदाय का नाम रोशन किया है । जहाँ एक ओर डॉ. जनक राज आईजीएमसी शिमला में प्रोफेसर बने है तो वहीँ रूमेल सिंह ठाकुर मुख्य अभियंता विद्युत के पद पर पदोंन्नत हुए है । दोनों की सफलता से जिला चंबा में ख़ुशी का माहोल है और भरमौर क्षेत्र में जश्न का माहौल है।

बता दें कि डॉ. जनकराज न्यूरोसर्जन होने के साथ उन्हें आईजीएमसी का एमएस का कार्यभार भी देख रहे है। डॉ. जनक राज की प्राथमिक शिक्षा प्राथमिक पाठशाला संचुईं से हुई। उन्होंने अपनी काबिलियत के दम से नवोदय में दाखिला लिया। इसके बाद पीएमटी की परीक्षा पास करने के बाद एमबीबीएस किया। एमबीबीएस करने के बाद शिमला समेत प्रदेश के अलग-अलग जगहों पर नौकरी की। इसके बाद जनक राज ने न्यूरोसर्जरी में मास्टरी हासिल की। प्रदेश के इतने बड़े अस्पताल का एमएस होने के साथ ही अब प्रोफेशर बनना गर्व की बात है।

वहीँ रूमेल सिंह ठाकुर मूल रूप से भरमौर उपमंडल के राजौर गांव के रहने वाले हैं। उन्होंने बिजली बोर्ड में वर्ष 1988 से बतौर कनिष्ठ अभियंता अपनी सेवाएं देना आरंभ किया था। पांगी व भरमौर में बतौर कनिष्ठ अभियंता सेवाएं देने के बाद वर्ष 1997 में सहायक अभियंता के पद पर पदोन्नत हुए। रूमेल सिंह ठाकुर ने सहायक अभियता के तौर पर सोलन, चम्बा, डलहौजी, चुवाडी व भरमौर में अपनी सेवाएं दी। बतातें चलें कि मुख्य अभियंता बनने से पहले रूमेल सिंह ठाकुर एसई डलहौजी थे। इसके साथ ही प्रसिद्ध लोकगायक भी हैं। उन्होंने मेरा खिनू बड़ा उस्ताद’, ‘साबो भरमौरिया’, ‘चक्की डेरा’, ‘हाय ढोलाऔर धूपलिएजैसे हिट गीत गाकर अपनी आवाज का लोहा मनवाया है।