Movie prime
बकलोह और ककीरा क्षेत्र में हर्षोलास से मनाया हरितालिका तीज
बकलोह और ककीरा क्षेत्र में हर्षोलास से मनाया हरितालिका तीज
 

डलहौज़ी हलचल (ककीरा) भूषण गुरंग  :  जिला चंबा के बकलोह और ककीरा क्षेत्र में आज गोरखा समाज के महिलाओं द्वारा तीज का व्रत जिसे हरितालिका तीज के नाम से भी जाना जाता है बहुत ही हर्षोलास से मनाया । महिलाएं सुबह से ही भगवान शिव के मंदिर में एकत्रित हो गई थीं जहाँ पर महिलाओं ने भगवान् शिव को दूध, दहीं ,शहद औऱ गंगा जल से स्नान करवा कर उनको नए वस्त्र धारण करवाए औऱ उनकी पसंद की सभी चीजों का भोग  उनको अर्पित किया । 

बता दें कि भगवान् शिव को जौ,तील, दुर्व भांग,धतूरा, दूध दहीं के साथ फ़लाहार चढ़ाया जाता है और शाम को फिर सभी महिलाएं मंदिर में एकत्रित हो कर भगवान् शिव की आराधना करती है । पूजा का दिये भगवान शिव के आगे जलाए जाते है और रात भर उस दिये के आगे बैठ कर भजन कीर्तन किया जाता है। रात भर उस दिये को बुझने नही दिया जाता है। और जो दीया बुझ जाता है उसको  अशुभ माना है।

पंडित राम प्रसाद के अगुवाई में सभी महिलाओं को इकठ्ठा बिठाकर पूजन करवाने के बाद ब्रत कथा सुनाया जाता और ब्रत के महत्व के बारे मे बताया । पंडित रामप्रसाद ने बताया की ये ब्रत श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के ठीक 11वें  दिन में आता है। इस दिन महिलाएं सुबह नहा धोकर नया सुहाग के वस्त्र धारण करके अगले दिन सुबह तक भजन कीर्तन किया करती है। उसके बाद आरती उतारी जाती है और सूरज के पहली किरण जैसे ही निकलती है उसके साथ ही पति के हाथों से जल ग्रहण कर के ब्रत को तोड़ा जाता है।