Movie prime
युवाओं के लिए खेल सुविधाओं का किया जा रहा विस्तार: सरवीन चौधरी
ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे मैदानों के निर्माण के लिए विशेष घटक योजना के तहत 625 खेल मैदानों का किया गया निर्माण
 
डलहौज़ी हलचल (धर्मशाला) :- सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री सरवीन चौधरी ने कहा कि प्रदेश को प्रगति की राह पर गतिमान बनाने में युवा वर्ग अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। युवाओं की ऊर्जा को सही दिशा प्रदान कर राष्ट्र निर्माण में इस महत्वपूर्ण वर्ग की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। सरवीन चौधरी आज धर्मशाला इंडोर स्टेडियम में हिमाचल प्रदेश जूनियर अंडर-19 राज्य स्तरीय बैडमिंटन प्रतियोगिता, 2021 का समापन समारोह अवसर पर बोल रहीं थी। इस तीन दिवसीय प्रतियोगिता में नौ जिलों के लगभग 80 खिलाड़ियों ने भाग लिया।

  सरवीन चौधरी ने खिलाड़ियों को बधाई देते हुए कहा कि खेलों का मानव जीवन में बहुत महत्व है और खेल-कूद गतिविधियां मनुष्य को स्वस्थ बनाती हैं तथा आपसी प्यार, सदभावना पैदा करती है। उन्होंने कहा कि खेलकूद मानव जीवन मेेें अपने कर्तव्य के प्रति बोध को जागृत करने और अनुशासन की भावना को प्रगाढ़ करने में सहायक होते हैं। ऐसी प्रतियोगिताओं के आयोजन से जहां खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित करने का बेहतर अवसर मिलता है वहीं जीवन में तनाव को कम करने में मददगार होती हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजनों से राज्य के विभिन्न जिलों के खिलाड़ियों में एक साथ मिल कर टीम भावना से अपने खेल के प्रति समर्पित भाव से खेलने की भावना विकसित एवं सुदृढ़ होती है। उन्होंने कहा कि उभरते हुए खिलाड़ी राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर नये कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं।

  सरवीन चौधरी ने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर प्रदेश में खेल गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा युवाओं को बढ़ावा देने के लिए खेल नीति तथा युवा नीति का संशोधित प्रारूप तैयार किया गया है। उन्होंने कहा मुख्यमंत्री खेल विकास योजना के अन्तर्गत गत चार वर्षों में तीन लाख रुपये व्यय किये जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक विधान सभा क्षेत्र में खेल मैदान निर्माण पर 10 लाख रुपये व्यय किये गये हैं। मुख्यमंत्री युवा खेल प्रोत्साहन योजना के तहत लगभग 10.33 करोड़ रुपये व्यय किये गये हैं। इस योजना के तहत प्रत्येक विधान सभा क्षेत्र में 15 लाख रुपये की लागत से एक-एक खेल मैदान का निर्माण किया गया है। 

  उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा उत्कृष्ठ खिलाड़ियों को विभिन्न विभागों में रोजगार प्रदान करने के हेतू तीन प्रतिशत खेल कोटा निर्धारित किया गया है, जिसके तहत 220 उत्कृष्ट खिलाड़ियों को विभिन्न विभागों, बोर्ड अथवा निगमों में रोजगार प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि गत चार वर्षों में प्रदेश सरकार द्वारा विभिन्न खेल गतिविधियों के आयोजन पर 7.39 करोड़ रुपये व्यय किये गये हैं। उन्होंने कहा गत चार वर्षों में ऊना तथा बिलासपुर में संचालित किये जा रहे छात्रावासों के 368 छात्रों पर 1.51 करोड़ रुपये की राशि व्यय की गई है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में छोटे मैदानों के निर्माण के लिए विशेष घटक योजना के तहत 625 खेल मैदानों का निर्माण किया गया है। प्रदेश सरकार द्वारा गुणात्मक आधारभूत खेल ढ़ाचा सुनिश्चित करवाने के उद्देश्य से राज्य में खेलों के आधुनिक अधोसंरचना के लिए 76.81 लाख व्यय किये जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त राज्य में सृजित आधारभूत खेल ढ़ाचा के मरम्मत कार्यों व अतिरिक्त सुविधाआों को जुटाने के लिए प्रदेश सरकार द्वारा गत चार वर्षों में 4.59 करोड़ रुपये व्यय किये जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर युवाओं को खेलों की और प्रेरित करने के लिए बहुत ही सराहनीय कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सांसद खेल महाकुंभ जैसे आयोजन कर एक अभिनव पहल की है।

  इस दौरान विधायक विशाल  नैहरिया   ने   कहा   कि   धर्मशाला खेलों का हब बन कर उभरा है। यहां पर अर्न्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय स्तर के खेलों का आयोजन किया जाता है। उन्होंने कहा कि खिलाड़ी खेल की भावना के साथ खेलें। उन्होंने बच्चों से नशे से दूर रहने और रचनात्मक गतिविधियों में आगे बढ़कर भाग लेने का आह्वान किया। उन्होंने खिलाडियों को कहा कि वे खुद नशे से दूर रहते हुए इसकी बुराईयों को लेकर अपने आस-पास के हर व्यक्ति को जागरूक करने का प्रयास करें। उन्होंने कहा कि नशे की समस्या न केवल एक व्यक्ति को कमजोर करती है, बल्कि पूरे परिवार की खुशियों को नष्ट करती है।

  हिमाचल प्रदेश बैडमिंटन संघ के महासचिव राजिन्द्र शर्मा ने बैडमिंटन प्रतियोगिता बारे में विस्तार से जानकारी दी। इससे पूर्व जिला कांगड़ा बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष श्री सुनील मनोचा एवं समस्त जिला कार्यकारिणी द्वारा मुख्य अतिथि को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।

  प्रतियोगिता में अंडर 19 बालक वर्ग में सिरमौर के हर्षित नौटियाल ने कांगड़ा के दिव्यांश दुग्गल को हराकर इस प्रतियोगिता पर कब्जा किया। वही अंडर-19 बालिका वर्ग में कांगड़ा की भारती ने कांगड़ा की ही अक्षिता चौधरी को हराकर इस प्रतियोगिता पर कब्जा किया। अंडर-19 बालक युगल मुकाबले में शिमला के पार्थिव एवं समक्ष ढालता की जोड़ी ने कांगड़ा के दिव्यांश दुग्गल एवं प्रतीक सिंह राणा की जोड़ी को हराकर इस प्रतियोगिता पर कब्जा किया। अंडर 19 बालिका युगल मुकाबले में कांगड़ा जिले की अक्षिता चौधरी एवं ज्योतिषका की जोड़ी ने मंडी की पलक एवं परीक्षा की जोड़ी को हराकर खिताब अपने नाम किया।

इस अवसर मुख्य अतिथि द्वारा विजेता एवं उपविजेता खिलाड़ियों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।

  हिमाचल प्रदेश बैडमिंटन संघ के प्रेस सचिव विलास हंस ने बताया कि इस प्रतियोगिता के एकल मुकाबले में विजेता एवं उपविजेता रहे खिलाड़ी एवं युगल मुकाबला एवं मिक्स डबल मुकाबलों में विजेता रहे खिलाड़ी भविष्य में अगर इस वर्ष के अंतर्गत आने वाले दो-तीन महीनों में भारतीय बैडमिंटन संघ द्वारा राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता आयोजित की जाती है तो यह खिलाड़ी इस प्रतियोगिता में हिमाचल प्रदेश का प्रतिनिधित्व करेंगे। इसके अतिरिक्त जिला कांगड़ा बैडमिंटन संघ की तरफ से कांगड़ा जिले के खिलाड़ी महिला इंटर कॉलेज प्रतियोगिता में विजेता रहे। खिलाड़ियों को कांगड़ा जिला बैडमिंटन संघ की तरफ से सम्मानित किया गया एवं नवंबर महीने में हमीरपुर में आयोजित सीनियर बैडमिंटन राज्य प्रतियोगिता में अच्छा प्रदर्शन करने वाले कांगड़ा जिला के खिलाड़ी सिमरन कपूर रूबी एवं दिव्यांश दुग्गल को कांगड़ा जिला बैडमिंटन संघ के द्वारा सम्मानित किया गया। इसके अतिरिक्त मिक्स डबल मुकाबले में जिला शिमला की पार्थिव एवं  पाखी मनवाल की जोड़ी ने जिला कांगड़ा के दिव्यांश दुग्गल एवं ज्योतिष का को हराकर खिताब अपने नाम किया।

  इस अवसर पर स्थानीय विधायक विशाल नैहरिया, महापौर नगर निगम ओंकार नेहरिया, पार्षद तेजिन्द्र कौर, रेखा, मोनिका पठानिया, राजकुमारी, संतोष अनुज, डिंपल, किरण, हिमाचल प्रदेश बैडमिंटन संघ के महासचिव राजिन्द्र शर्मा जिला युवा सेवाएं एवं खेल अधिकारी नरेश पाल गुलेरिया, ताइकवाड़ों कोच सुरिन्द्र मोहन, जिला कार्यकारिणी महासचिव पंकज शर्मा, सर्व चंद धीमान, करम चंद राठौर, रेखा डडवाल, पीसी डडवाल, गौरव चड्ढा, संदीप ढींगरा, विक्रम चौधरी, संजीव सूद, पवन चौधरी उपस्थित रहे।