Movie prime
जल्द शुरू होंगे चार जल विद्युत परियोजनाओं के निर्माण कार्य -विधानसभा उपाध्यक्ष

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर रखेंगे आधारशिला, कोई भी परिवार नहीं होगा  विस्थापित  

 
 

डलहौज़ी हलचल (चंबा) : विधानसभा उपाध्यक्ष डॉ हंसराज ने कहा कि चुराह  घाटी   में राज्य विद्युत बोर्ड को 65.5 मेगावाट की  चार जल विद्युत परियोजनाओं के निर्माण को सरकार ने अनुमति प्रदान की है । मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर इन जल विद्युत परियोजनाओं के  निर्माण की आधारशिला जल्द रखेंगे । इसमें 15 मेगावाट सेई कोठी चरण प्रथम , 16.5 मेगावाट  सेई कोठी चरण दितीय, 16 मेगा वाट देवी कोठी,और 18  मेगावाट हैल जल विद्युत परियोजना शामिल है ।   विधानसभा उपाध्यक्ष आज हिमाचल प्रदेश राज्य बिजली बोर्ड के अधिकारियों के साथ  परिधि गृह चंबा में परियोजनाओं से संबंधित   महत्वपूर्ण पहलुओं की समीक्षा के लिए    आयोजित बैठक में बोल रहे थे ।

डॉ हंसराज ने बताया कि इन विद्युत परियोजनाओं के निर्माण से कोई भी परिवार विस्थापित नहीं होगा । परियोजनाएं रन ऑफ रिवर पर आधारित होंगी । इन जल विद्युत परियोजनाओं के कार्यशील होने से ज़िला में सामाजिक और आर्थिक विकास के नए विकल्प उपलब्ध होंगे । उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व में अब प्रदेश सरकार ने अपने संसाधनों के अनुरूप जल विद्युत  परियोजनाओं को शुरू करने का निर्णय लिया है । जिससे  स्थानीय लोगों के हितों को सुरक्षित रखने के साथ कार्यों की गुणवत्ता को भी सुनिश्चित बनाया जा सकेगा ।

विधानसभा उपाध्यक्ष ने ये भी कहा कि प्राइवेट कंपनियों  द्वारा संचालित  विद्युत परियोजनाओं में स्थानीय लोगों की  मांगें और शिकायतें   समयबद्ध सीमा के भीतर हल नहीं हो पाती हैं । कुछ मामले लंबे समय तक लंबित रहते  हैं । डॉ हंसराज ने  बताया कि हाइड्रो पावर इन हिमालय कार्यक्रम के तहत इन विद्युत परियोजनाओं को जर्मन केएफडब्ल्यू विकास बैंक द्वारा वित्त पोषित किया जा रहा है । ये विद्युत परियोजनाएं सभी जिला वासियों के लिए सौगात होंगी  । इसके अलावा निर्माण कार्य शुरू होने से  सैकड़ों युवाओं  को रोजगार के बेहतर अवसर  उपलब्ध होने के साथ ऊर्जा राज्य के रूप में प्रसिद्ध हिमाचल प्रदेश में विद्युत ऊर्जा के नए आयाम  भी स्थापित होंगे  ।

बैठक में अधीक्षण अभियंता डिजाइन एवं प्लानिंग इं. संजय जागोता , प्लानिंग इं.  सुरेश कुमार ने वन संरक्षण अधिनियम के तहत वन भूमि के व्यपपर्तन मामले की वर्तमान स्थिति, परियोजनाओं से लाभ और संबंधित महत्वपूर्ण विषय पर जानकारी  प्रदान की । इस दौरान वरिष्ठ अधिशासी अभियंता एचआईडी राजेश्वर कुमार सहित विभागीय अधिकारी मौजूद रहे ।