Movie prime
हादसा नहीं थी तीसा के करातोट गांव की घटना, तीन बच्चों सहित पिता की हुई थी हत्या
हादसा नहीं थी तीसा के करातोट गांव की घटना, तीन बच्चों सहित पिता की हुई थी हत्या
 
डलहौज़ी हलचल (Tissa) :  चंबा जिला के तीसा उपमंडल की बिहाली (Bihali) पंचायत के करातोट गांव में मकान के कमरे में भड़की आग से तीन बच्चों सहित ग्रामीण की मौत हादसा नहीं बल्कि इनकी एक सोची समझी साजिश के तहत हत्या की गई थी। पुलिस ने हत्या के आरोप में मृतक की पत्नी भूरा और करातोट गांव के जमात अली को गिरफ्तार किया है। आरोपियों को शनिवार को अदालत में पेश कर चार दिन के पुलिस रिमांड पर ले लिया गया है। पुलिस आरोपियों की निशानदेही के जरिए सुनियोजित तरीके से हत्या की वारदात को हादसे का रूप देने के अनसुलझे पहलुओं से पर्दा हटाने में जुट गई है।

वहीँ पुलिस ने मृतकों की पीएमआर रिपोर्ट में चिकित्सकों के संदेह जताने और मौके के हालातों को देखते हुए मृतक के पिता के बयान पर हत्या का मामला दर्ज किया है। पुलिस फोरेंसिक की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है।

गौरतलब है कि चौदह सितंबर की सुबह करातोट गांव के एक मकान के कमरे में आग लगने से मोहम्मद रफी की जिंदा जलने और तीन मासूम बच्चों की दम घुटने से मौत हो गई थी। इस घटना में मृतक की पत्नी भूरा किसी तरह खुद को बचाने में कामयाब हो गई थी। आरंभिक जांच के दौरान मृतक मोहम्मद रफी की पत्नी इसे हादसा बताकर पुलिस को गुमराह करती रही।

हालांकि मृतक मोहम्मद रफी के परिजन इसे सुनियोजित तरीके से हत्या करार देने की बात कर रहे थे। मृतकों की पोस्टमार्टम के दौरान चिकित्सकों ने संदेह जाहिर किया था कि यह एक्सीडेंटल फायर केस नहीं है। इसके बाद पुलिस ने हरकत में आते हुए मृतक की पत्नी भूरा से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया। भूरा ने गांव के जमात अली के साथ मिलकर हत्या की इस वारदात को अंजाम देने की बात कही है। इसके बाद पुलिस ने घटनास्थल का बारीकी से जायजा लेने के बाद मिले सुरागों के आधार पर मृतक की पत्नी भूरा व जमात अली को गिरफ्तार कर लिया है।

उधर, डीएसपी सलूणी आईपीएस मंयक चौधरी ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि फोरेंसिक टीम की रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। इस रिपोर्ट को भी जोड़कर मामले की जांच को आगे बढ़ाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस हत्याकांड में शामिल मृतक की पत्नी सहित जमात अली को गिरफ्तार किया गया है।