Movie prime
मनरेगा के तहत निर्मित सिंचाई टैंक से 10 परिवारों की 40 बीघा बंजर भूमि हुई उपजाऊ
 
 

डलहौज़ी हलचल (नाहन) : विकास खण्ड नाहन के अंतर्गत पड़ने वाले गांव बेचड का बाग के लगभग 10 परिवारों की आर्थिकी को सुधारने में मनरेगा के तहत निर्मित सामूहिक वर्षा जल संग्रहण सिंचाई टैंक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह जानकारी देते हुए स्थानीय पंचायत के प्रधान अनिल ठाकुर ने बताया कि इस टैंक के निर्माण हेतु 5 लाख रुपये की राशि स्वीकृत हुई थी जिसे मनरेगा द्वारा वर्ष 2019-20 में निर्मित किया गया है। इस टैंक की भण्डारण क्षमता 1 लाख 50 हजार लीटर है जिसे गांव के वार्ड न0-2 में निर्मित किया गया है। इससे गांव के 8 से 10 परिवारों के खेतों को सिंचाई की सुविधा उपलब्ध हो रही है।

खण्ड विकास अधिकारी नाहन अनूप शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया की मनरेगा के तहत विभाग अनेक प्रकार के विकास कार्य करवाता है जिसमें जल सग्रहण निर्माण, जोहड़ों तथा तालबों का निर्माण, पंचवटी व पौधा रोपण तथा मुख्यमंत्री एक बीघा योजना जिसमें स्ंवय सहायता समूह की मलिाओं को किचन गार्डनिंग के लिए प्ररित व प्रशिक्षित किया जाता है। उन्होंने बताया कि पंचायत द्वारा किये जाने वाले कार्यो को ग्राम सभा की बैठक में प्रारित करवाया जाता है उन कार्यो की एक सेल्फ बनाकर उन्हें जिला परिषद की बैठक में अनुमोदित करवाया जाता है। खण्ड विकास कार्यालय द्वारा इन कार्यो के लिए तकनीकी कार्य तथा विभाग की देख रेख में इन कार्यो को पूर्ण किया जाता है ताकि इन कार्यो की गुणवत्ता का ध्यान रखा जा सके।

सिंचाई टैंक के लाभार्थी रविन्द्र सिंह ने बताया कि उन्होंने स्नातकोत्तर तक पढाई की है तथा वह नौकरी करने की अपेक्षा कृषि क्षेत्र में आजीविका प्राप्त करना चाहते थे क्योंकि उनके क्षेत्र की भूमि नकदी फसलों के लिए उपजाऊ है तथा क्षेत्र के अधिकतर लोगों के पास सिंचाई के पानी की व्यवस्था है जिससे वह नकदी फसलें उगाकर अच्छी आय प्राप्त कर रहे हैं।

नाहन

रविन्द्र सिंह का कहना है कि उनका घर ऊंचाई पर है और वहां जल का कोई स्रोत भी नहीं है जिस कारण सिंचाई के लिए पानी की व्यवस्था तो दूर की बात, उन्हें गर्मियों में पीने के पानी तक की समस्या हो जाती थी। फिर उन्हें स्थानीय पंचायत प्रधान द्वारा जानकारी मिली की सरकार मनरेगा के तहत सिंचाई के लिए वर्षा जल संग्रहण टैंक का निर्माण करवा रही है। रविन्द्र सिंह ने अपनी दो बिस्वा निजी भूमि सामूहिक वर्षा जल संग्रहण सिंचाई टैंक के निर्माण हेतु प्रदान की जिससे उनकी जमीन पर सिंचाई टैंक का निर्माण किया गया। इस टैंक के निर्माण से न केवल रविन्द्र अपितु आस-पास के 8 से 10 परिवार के लोग भी लाभान्वित हो रहे हैं और इस टैंक में एकत्रित वर्षा जल से 30 से 40 बीघा भूमि भी सिंचित हो रही है। जो भूमि पहले बंजर पड़ी थी उस भूमि पर अब अच्छी नगदी फसले पैदा होने लगी हैं।

रविन्द्र ने बताया कि अब वह टमाटर, मूली, खीरा, लहसून, बीन्स और अदरक इत्यादि नगदी फसलों का बड़े पैमाने पर उत्पादन कर रहे हैं जिससे उनके परिवार व अन्य साथ लगते परिवारों की आर्थिकी में सुधार हो रहा है।

रविन्द्र ने सरकार का धन्यवाद करते हुए कहा कि वह सरकार का इस सामूहिक वर्षा जल सग्रहण टैंक के लिए दिल से आभार व्यक्त करते है जिस कारण उन्हें घर पर ही रोजगार के अवसर प्रदान हुए। उन्होंने कहा कि अन्य लोगों को भी आगे आकर सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ उठाना चाहिए।