Movie prime
हिमाचल की टीम में सिलेक्शन के बहाने क्रिकेटर से 9 लाख की ठगी
 
डलहौज़ी हलचल (गुरुग्राम) : राज्यस्तरीय प्रतियोगिता सीके नायडू ट्रॉफी में हिमाचल की टीम में सिलेक्शन के बहाने पालम विहार के रहने वाले अंशुल राज से शातिरों ने 9 लाख की ठगी की वारदात को अंजाम दे डाला। पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने इस मामले में शामिल तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। तीनों आरोपियों की पहचान  आशुतोष वोहरा, उसकी बहन चित्रा वोहरा और उनके साथी नवीन के रूप में की गई है । बहरहाल पुलिस ने तीनों आरोपियों को रिमांड पर ले गिरोह के बाकी सदस्यों की गिरफ्तारी के प्रयास तेज कर दिए हैं।

दरअसल गिरोह के मास्टरमाइंड आशुतोष वोहरा और उसकी बहन चित्रा वोहरा ने सिक्योर कॉरपोरेट मैनेजमेंट सिस्टम के नाम से फर्जी कंपनी बना रखी थी, जिसमे काम करने वाले गिरोह के अन्य सदस्य अपकमिंग क्रिकेटर्स पर खासी नज़र बना के रखते थे और मौका पाते ही क्रिकेट की राज्यस्तरीय प्रतियोगिताओं में कभी हिमाचल तो कभी किसी अन्य राज्य की टीम में सिलेक्शन के बहाने लाखों रुपये ठगते आ रहे थे।

इस मामले में भी पुलिस की माने तो पीड़ित अंशुल राज को तीन बार हिमाचल प्रदेश बुलाया गया उसे सपना दिखाया गया कि सिलेक्शन के वाद पहला मैच धर्मशाला में होगा। बस पीड़ित अंशुल इन शातिर ठगों के झांसे में आ गया और तकरीबन 9 लाख रुपये इस फ़र्ज़ी कंपनी के अकाउंट में ट्रांसफर कर दिए। एसीपी क्राइम की मानें तो अकाउंट में पैसा आने के बाद इन शातिर ठगों ने अंशुल को बरगलाना शुरू कर दिया।

दरअसल इस ठगी की वारदात के पीछे क्रिकेट के प्रति दिनों-दिन बढ़ती दीवानगी भी प्रमुख वजह है , जिसके चलते अपकमिंग क्रिकेटर इस तरह के झांसों में लाखों रुपये तक ख़र्च करने को तैयार हो रहे थे। आर्थिक अपराध शाखा ने इनके कब्ज़ा से 4 लाख कैश, 11 मोबाइल फ़ोन, 2 लेपटॉप और 1 आईपैड को बरामद कर मामले की तफ़्तीश शुरू कर दी है।