Movie prime
कथेट में मुसलाधार बरसात के बाद छह मवेशी नाले के पानी में बहे, बाल बाल बचा मकान
कथेट में मुसलाधार बरसात के बाद छह मवेशी नाले के पानी में बहे, बाल बाल बचा मकान
 
 

डलहौज़ी हलचल (चुवाड़ी) भूषण गुरंग  : चंबा जिला के भटियात उपमंडल में मुसलाधार बरसात का कहर रुकने का नाम नहीं ले रहा है। उपमंडल की पंचायत कथेट में रविवार शाम करीब तीन बजे हुई मूसलाधार बारिश व बादल फटने से जहाँ 6 मवेशी बह गए तो वहीं एक घर भी बह जाने से बाल-बाल बचा। इस घटना में दो बकरियां तीन बैल बह गए हैं । वहीं पानी में बह रही एक खच्चर को लोगों ने बड़ी मुश्किल से बचा लिया है। हालाँकि पानी में बहने  के कारण उसे गंभीर चोटें पहुंची हैं। इस दौरान धान की फसल लगी जमीन को भी नुक्सान हुआ है।

रविवार की शाम को  करीब 3 बजे की बात है।00 कथेट पंचायत के गांव लूणी के ऊपर कुटा दी धार में बादल फटने के कारण भारी मात्रा में बाढ़ आने से पानी के तेज बहाव 6 मवेशी बह गए और इस दौरान धान की फसल लगी जमीन भी बह गई। वही यहाँ के स्थानीय निवासी ईच्छा देवी ने बताया कि यहाँ पर एक बजे के करीव से भारी बारिश हो रही थी परन्तु अचानक तीन बजे के करीव देखते ही देखते ऊपर पहाड़ से इतना पानीऔर पत्थर आ गए  उसके साथ ही लोगो के कई मवेसी  औऱ भेड़ बकरियां पानी के इस तेज़ बहाव  में बह गए साथ ही सड़क के साथ लगते  मक्की और धान के फसलों को भी बर्बाद कर दिया।  वही यहाँ पर स्थित टेंट हाउस के मालिक कुलभूषण ने बताया कि कल शाम को करीब 3 बजे अचानक कुटा की धार में बादल फटने के कारण वहाँ के लोगों के मवेशी और बकरियां  बह गई आज सुबह मवेशियों के मालिक उनको खोजने में लगे हुए थे । उन्होंने बताया कि गनीमत रही कि पानी के साथ आये बड़े पत्थरों के कारण उनकी दुकान बच गई जिसमें लाखों रुपये के टेंट हाउस का सामान रखा हुआ था । यदि पत्थर के साथ मालवा आया होता तो शायद बहुत सारा नुकसान होता।

गौरतलब है कि भटियात उपमंडल में भारी बारिश का कहर थमता नजर नहीं आ रहा है। गत सप्ताह हुई भारी बारिश से जहां सड़कों का नामोनिशान मिट गया था तो वहीं, लोगों के घरों को नुकसान हुआ था। लोग वर्तमान में सरकारी भवनों में समय गुजार रहे हैं।