Movie prime
14 वर्षों से बिमारी के चलते बिस्तर पर पड़े प्रवीन टंडन के लिए समाजसेवी संदीप भट्ट ने बढ़ाये मदद के हाथ
14 वर्षों से बिमारी के चलते बिस्तर पर पड़े प्रवीन टंडन के लिए समाजसेवी संदीप भट्ट ने बढ़ाये मदद के हाथ
 

डलहौज़ी हलचल (डलहौज़ी) : 14 वर्षों से बिमारी के चलते बिस्तर पर पड़े प्रवीन टंडन के लिए उत्तरांचल के संदीप भट्ट ने मदद के हाथ बढाए और उन्हें ढेड लाख रुपये की धन राशी उनकी दवाओं के लिए प्रदान की । समाजसेवक संदीप भट्ट को प्रवीन की इस हालत की जानकारी स्थानीय तिब्बती समुदाय के एक युवक के माध्यम से मिली जिसके बाद उन्होंने स्वयं दिल्ली से डलहौज़ी आ कर उन्हें ये धनराशी प्रदान की।

sandeep

उल्लेखनीय है कि डलहौज़ी के वार्ड नबर एक बकरोटा के निवासी प्रवीन टंडन की 26 वर्ष की आयु में एक टांग सुन्न पड़ गई थी जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए चंडीगढ़ ले जाया गया परन्तु इलाज के बाद भी धीरे धीरे उनकी दूसरी टांग ने भी काम करना बंद कर दिया तब से लेकर आज तक प्रवीन टंडन बिस्तर पर है और उन्हें शौच आदि के लिए भी दवाइयों का सहारा लेना पड़ रहा है जिसके लिए उन्हें प्रतिमाह लगभग 5000 रुपये का खर्चा वहन करना पड़ रहा है । प्रवीण की आयु इस समय 40 वर्ष है और उनकी माँ का स्वास्थ्य भी ठीक नहीं रहता ।

प्रवीन

प्रवीन टंडन के पिता रुमालों राम मूल रूप से उपमंडल डलहौज़ी के रुल्याणी गाँव के रहने वाले है और डलहौज़ी के बकरोटा में स्थित एक कोठी में चौकीदार के रूप में कार्य करते है। रुमालों राम के लिए अपने बेटे के इलाज के लिए धनराशी जुटाना किसी पहाड़ से कम नहीं है।

रुमालों राम ने समाजसेवी संदीप भट्ट का और तिब्बती समुदाय के लोगों का आभार व्यक्त किया ।