Movie prime
रामपुर में सड़क हादसे में तीन युवकों की मौत, गुस्साए लोगों ने किया चक्का जाम
रामपुर में सड़क हादसे में तीन युवकों की मौत, गुस्साए लोगों ने  किया चक्का जाम
 
डलहौज़ी हलचल (शिमला) :-  शिमला जिला के तहत रामपुर में सड़क हादसे में तीन युवकों की मौत हो गई। हादसा शनिवार रात करीब दो बजे शिमला-रामपुर एनएच पर रामपुर के सफेद ढांक के पास हुआ।

तीनों युवक अपने किसी परिचित की बाइक से रामपुर से खनेरी की तरफ जा रहे थे। इस दौरान सामने से आए टिपर से बाइक की टक्कर हो गई। तीन युवकों की मौके पर ही मौत हो गई। टिपर चालक घटनास्थल से फरार हो गया था, जिसे बाद में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। मृतकों की पहचान राहुल सेनी निवासी गांव ज्यूरी कोटला तहसील रामपुर, अनित नेगी गांव रूपी तहसील निचार (किन्नौर) व विनोद कुमार गांव चौरा, तहसील निचार के तौर पर हुई है। टिपर चालक देवी राम कुल्लू जिला के निरमंड का रहने वाला है।

राष्ट्रीय राजमार्ग पर सफेद ढांक के समीप टिपर और बाइक हादसे में तीन युवकों की मौत के बाद उनके स्वजन ने खनेरी अस्पताल के बाहर राष्ट्रीय राजमार्ग पर दिन में 12 बजे चक्काजाम कर दिया। प्रशासन व पुलिस के कर्मचारी देर रात साढ़े 11 बजे तक भी उन्हें समझाते रहे, लेकिन लोग नहीं माने। इस दौरान युवकों के स्वजन में काफी गुस्सा दिखा। उन्होंने पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाए। उनका कहना था कि जब ये दुर्घटना मध्यरात्रि को करीब दो बजे हुई तो उन्हें सुबह सूचित क्यों किया गया। वह भी पुलिस द्वारा उन्हें कोई सूचना नहीं दी गई बल्कि उनके रिश्तेदारों ने इस दुर्घटना के बारे में बताया। इसके विरोध में स्वजन ने खनेरी अस्पताल के बाहर दोपहर बाद जाम कर दिया। स्वजन का कहना था कि टिपर चालक पर हत्या का मामला दर्ज किया जाए। उन्होंने कहा कि रात को जो पुलिस कर्मी ड्यूटी पर थे उन्हें सस्पेंड किया जाए। जिस तरह से मौके की न तो वीडियोग्राफी की गई और न ही उन्हें समय पर सूचित किया गया, ये पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाता है। उन्होंने कहा कि एनएच पर कहीं पर भी सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हैं, जबकि अब तो ग्रामीण क्षेत्रों में भी कैमरे लग चुके हैं। उनका कहना है कि पुलिस ने इस पूरे मामले को हल्के में लिया है, जबकि उनके घरों के तीन चिराग बुझ गए।

इस दौरान स्वजन ने शवों को भी लेने से इन्कार कर दिया है। उनका कहना था कि जब तक उनकी बात को गंभीरता से नहीं लिया जाता तब तक वह एनएच से नहीं उठेंगे। दोपहर बाद एसडीएम सुरेंद्र मोहन व डीएसपी चंद्रशेखर भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने भी स्वजन को काफी समझाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने और एनएच पर ही डटे रहे। वहीं यहां पर चक्का जाम के कारण वाहनों को वाया बजीर बावड़ी व झाकड़ी से डायवर्ट किया गया। चक्का जाम करने के कारण यहां पर वाहनों की कतारें लगी रहीं। इससे लोगों को भी परेशान होना पड़ा। एसडीएम रामपुर सुरेंद्र मोहन ने लोगों को आश्वासन दिया कि स्वजन ने जो आरोप लगाए हैं, उसके तहत जांच की जाएगी। पुलिस इस मामले में गलत है तो कार्रवाई की जाएगी।